कर्ज से जूझ रहे छोटे व्यवसायों के लिए चुनौतियां और समाधान

| |

रिस्क एक बिजनेस चलाने का हिस्सा है। आप आसानी से मंदी, महामारी, प्राकृतिक आपदाओं या अन्य नकारात्मक घटनाओं की योजना नहीं बना सकते हैं, क्योंकि यदि आप बहुत सतर्क दृष्टिकोण अपनाते हैं तो आप कभी भी सफल नहीं होंगे। लेकिन कभी-कभी हालात आपके खिलाफ हो जाएंगे। 

कभी – कभी ऐसे भी हालात हो जाते हैं कि एक पैसे की कमाई होती है और खर्च दो पैसा होता है। इसी के साथ कर्ज का अलग से टेंशन होता है। इस कंडिशन को बिजनेस लोन से कम किया जा सकता है। इसका तरीका आगे बताया गया है। 

यदि आप अप्रत्याशित रूप से अपनी अपेक्षा से अधिक लोन में डूबे हुए हैं, तो घबराएं नहीं। विकल्प उपलब्ध हैं लेकिन उन विकल्पो पर कार्य करने की आवश्यकता है। यदि आप निष्क्रिय रूप से बैठते हैं तो हालात और खराब होने की प्रतीक्षा करते हैं, इसलिए विकल्पों पर कार्य करना चाहिए। 

अपनी स्थिति को समझें और कार्य करें 

यदि आप बढ़ते लोन यानी कर्ज का सामना कर रहे हैं, तो अच्छे की उम्मीद करने के बजाय उपलब्ध विक्लपों पर कार्य करें। यदि आप अपने ऋणों का भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो परिणाम अक्सर विनाशकारी होते हैं। इनमें बिजनेस में हानि, स्टॉक की जब्ती और आपके लेनदारों द्वारा लाए गए चक्कर शामिल होता है। 

संभावित रूप से इससे भी बदतर सरकारी हस्तक्षेप का जोखिम है। यदि आप अपने टैक्स का भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो सरकार आपके पैसे के पीछे पड़ जाएगी। जिससे आपको और अधिक परेशानी का सामना करना होगा। 

आप दुनिया में कहां रहते हैं, इस पर निर्भर करते हुए, सरकारों के पास अपना पैसा किसी भी तरह से प्राप्त करने का अधिकार होता है। वे आपकी व्यावसायिक संपत्तियों को जब्त कर सकते हैं, आपके बैंक खाते की सामग्री सील कर सकते हैं, आपको दिवालिया घोषित कर सकते हैं और यहां तक ​​कि आपके घर या कार जैसी व्यक्तिगत संपत्ति भी ले सकते हैं। कभी-कभी यह बिना अदालती सुनवाई के भी किया जा सकता है। 

ALSO READ  घर बैठे करें यह बिजनेस, नहीं होगी पैसों की कमी

इसलिए सतर्क रहें और अपनी स्थिति से अवगत रहें। अपने बकाया कर्ज और मासिक भुगतान पर कड़ी नजर रखने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग करें। यह जानकारी हर समय आपकी उंगलियों पर होनी चाहिए। 

उसके बाद, आपकी प्राथमिकताएं इस बात पर निर्भर करेंगी कि आप किस प्रकार का बिजनेस चलाते हैं और आपके आपूर्तिकर्ता कितने लचीले हैं। निम्नलिखित भुगतान प्राथमिकताएं सुझाव के तौर पर दी जा रही हैं, जिनका पालन आपको करना चाहिए- 

साहूकारों का कर्ज प्राथमिकता के आधार पर निपटाएं 

बिजनेस लोन की प्रक्रिया पारदर्शी होती है। इसमें आपको पता चलता है कि लोन पर कितना ब्याज लागू है और कितने समय में बिजनेस लोन को वापस करना है। लेकिन, साहूकारों का कर्ज का कुछ पता नहीं चलता है। इसलिए प्राथमिकता के आधार पर इस कर्ज का निपटारा किया जाना चाहिए। 

सप्लायर और बिजनेस पार्टनर्स को भरोसे में रखें 

किसी भी बिजनेस में सप्लायर सबसे महत्वपूर्ण होता है। इसलिए सप्लायर के साथ संबंध ठीक बनाकर रखें। भले ही आपके पास तत्काल धन न हो लेकिन, अपने सप्लायर को यह भरोसा दें कि वह माल की सप्लाई करे और उसका पेमेंट एक तय समय में हो जाएगा। 

क्रेडिट कार्ड का भुगतान न रोकें 

यदि आप क्रेडिट कार्ड का भुगतान नहीं करते हैं, तो आपका क्रेडिट स्कोर प्रभावित होगा, जो भविष्य में लोन लेने में दिक्कत खड़ी कर देगा। इसलिए क्रेडिट कार्ड का भुगतान तम समय पर करें। 

सेकयोर्ड लोन (सुरक्षित ऋण) लेने का प्रयास करें 

यदि आप अपना बिजनेस एकमात्र मालिक या साझेदारी के रूप में चलाते हैं, तो आपको लोन के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। जिसका फायदा उठाकर आप सेक्योर्ड लोन लेकर अपने सभी भुगतानों को एक बार में ही समाप्त कर सकते हैं। बाद में सेक्योर्ड लोन का भुगतान कर सकते हैं। 

ALSO READ  इनवाइस फाइनेंस क्या है? जानिए

बैंक लोन को रिस्ट्रकचर करने की तरफ आगे बढ़ें 

आप अपने बैंक लोन पर फिर से बातचीत करने में सक्षम हो सकते हैं, इसलिए यह ब्याज भुगतान और मासिक टेन्योर और अधिक करने के लिए निवेदन कर सकते हैं। इससे आपको लोन चुकाने के लिए कुछ अतिरिक्त समय मिल जाता है और मासिक ईएमआई भी कम हो जाती है। 

यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि आप अपने बिजनेस लोन को भी रिस्ट्रकचर कर सकते हैं। साथ ही बिजनेस लोन पर मोरेटोरियम का भी लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यह सुविधा सभी बैंकों और एनबीएफसी पर लागू है। इससे आपको बहुत हद तक राहत मिल सकता है।  

अपना इनकम बढ़ाएं 

निश्चित रूप से कहना आसान है, लेकिन थोड़ा कठिन है। लेकिन ऐसे तरीके हैं जिनसे आप अल्पकालिक राजस्व को बढ़ावा दे सकते हैं। प्लान करके, आप अपने लोन भुगतान को वापस ट्रैक पर लाने के लिए पर्याप्त रूप से काम कर सकते हैं। 

बिक्री बढ़ाने के लिए ग्राहकों को छूट का ऑफर्स दें 

बिजनेस का राजस्व बढ़ाने के लिए बिक्री बढ़ना अनिवार्य है। बिक्री तब बढ़ सकती है, जब आपके बिजेस पर ग्राहक आयें। जिसके लिए आपको छूट का ऑफर्स देना होगा। यह एक बहुत कारगर तरीका है। 

Previous

बिजनेस लोन री-फाइनेंसिंग क्या है? जानिए

5 बिजनेस आइडिया जो 2021 के लिए बड़े होंगे

Next

Leave a comment

0 Shares
Tweet
Share
Share
Pin