बकरी पालन व्यवसाय: लागत और मुनाफा जानिए

| |

भारत में पशुधन का व्यवसाय करना सदैव से लाभदायक रहा है। पशुपालन में गाय – भैंस पालन, बकरी – भेड़ पालन इत्यादि आता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको बकरी पालन व्यवसाय के बारे में जानकारी देते जा रहे हैं।  

बकरी पालन व्यवसाय 

भारत में बकरी पालन व्यवसाय सदियों से हो रहा है। एक समय बकरी पालन आय का प्रमुख जरिया हुआ करता था। हालांकि आज भी बकरी पालन बहुत से लोगों का प्रमुख आय का जरिया है। इस व्यवसाय में अनलिमटेड इनकम है। लेकिन शर्त यह है कि इस व्यवसाय को पूरे मन से और मेहनत से किया जाय। छोटे स्तर से व्यवसाय को शुरु करके बिजनेस का विस्तार भी किया जा सकता है। जिसके लिए बिजनेस लोन की सहायता बैंक और एनबीएफसी कंपनियों द्वारा आसानी से प्राप्त हो सकती है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि बिजनेस का विस्तार करने के लिए देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan द्वारा 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन बहुत आसानी से मिल जाता है। 

बकरी पालन व्यवसाय में तीन प्रकार से प्रोडक्ट तैयार किया जा सकता है। 

  1. बकरी का दूध 
  1. मांस का व्यवसाय 
  1. बकरी के बच्चे बेचने का व्यवसाय 

बकरी के दूध का व्यवसाय 

क्या आप जानते हैं कि डेंगू बुखार में सबसे अधिक फायदेमंद क्या होता है? आपको बता दें कि डेंगू के बुखार में बकरी का दूध ही सबसे फायदेमंद होता है। कोरोना काल में बकरी का दूध हजारों रुपये लीटर के हिसाब से बिका था। नार्मल समय में भी बकरी का दूध महंगा ही बिकता है। क्योंकि यह लिमिटेड है। इस हिसाब से बकरी के दूध का व्यवसाय शुरु करना एक मुनाफे वाला बिजनेस है।  

ALSO READ  ऑर्गेनिक फूड स्टोर बिजनेस कैसे शुरू करें

अगर बात करें कि बकरी के दूध का व्यवसाय शुरु करने में लगने वाले फंड की तो इस बिजनेस को आप अपनी निवेश क्षमता के अनुसार शुरु कर सकते हैं। क्योंकि व्यवसाय पूर्ण रुप से दूध देने वाली बकरियों के ऊपर निर्भर है। जितनी अधिक बकरियां होंगी, उतने ही अधिक दूध होगा और बिजनेस भी उसी के अनुसार तैयार होगा। 

मांस का व्यवसाय 

आज के समय भारत की 60 प्रतिशत जनसंख्या मांसाहार का सेवन करती है। मांसाहार में बकरे के मीट की मांग बहुत जोर – शोर से होती है। इसी के साथ आपको यह भी बता दें कि बकरे की मांस महंगा भी होता है। लोकल मांस मार्केट में यह 300 से 400 रुपये प्रतिकिलो के हिसाब से बिकता है। इस हिसाब से देखें तो मांस के व्यापार में भी बेहतर मुनाफा होता है। 

अगर बात करें कि बकरे के मांस के व्यापार में कितना फंड लगाना होता है और कितनी इनकम होती है। तो जानिए कि एक स्वस्थ बकरे में 4 से 5 किलो मांस निकलता है। अगर 300 रुपये प्रतिकिलो के हिसाब से काउंट करें तो किलो के बकरे में 1500 रुपये की कमाई हो जाती है। यह हो गई कमाई की बात, अब जानते हैं कि मांस के व्यवसाय को शुरु करने में कितना फंड लगता है। 

मांस का व्यवसाय पूर्ण रुप से बकरे के ऊपर निर्भर होता है। आप जितने अधिक बकरे का पालन करेंगे उतना अधिक प्रोडक्ट होगा। एक बकरे का पालन कम से कम 5 माह करना होता है और एक बकरे के पालन में पांच सौ रुपये खर्च होता है।  

ALSO READ  टैक्सटाइल सेक्टर के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

बकरी के बच्चे बेचने का व्यवसाय 

बकरी के बच्चे बेचने का व्यवसाय भी खूब चलता है। इस व्यवसाय में कारोबारी बकरियों को झूंड में रखता है और प्रजजन होने के बाद कुछ अपने पास रखता है, फिर इन्हें बेच देता है। इसमें अच्छा मुनाफा हो जाता है। जहां तक इस व्यवसाय को शुरु करने में लगने वाले फंड की बात है तो यह बिजनेस भी बकरियों की संख्या पर आधारित होता है। हालांकि, इस व्यवसाय में अच्छी बात यह है कि जब बकरी प्रजनन करती है तो एक साथ में कई बच्चों को जन्म देती है। कभी – कभी तो बच्चों की संख्या 6 से भी अधिक हो जाती है। इसीलिए बकरी के व्यवसाय को मुनाफेदार व्यवसाय के तौर पर जाना जाता है। 

Previous

कॉमर्शियल लोन का क्या अर्थ है और व्यवसाय इसका कैसे लाभ उठा सकते हैं? जानिए

ऑर्गेनिक फूड स्टोर बिजनेस कैसे शुरू करें

Next

Leave a comment

0 Shares
Tweet
Share
Share
Pin